समकालीन जनमत (पत्रिका) के लिए संपर्क करें-समकालीन जनमत,171, कर्नलगंज (स्वराज भवन के सामने), इलाहाबाद-211002, मो. नं.-09451845553 ईमेल का पता: janmatmonthly@gmail.com

Wednesday, September 3, 2008

शहीद चंद्रशेखर की मां कौशल्या जी का निधन

कौशल्या जी किडनी की बीमारी से पीड़ित थीं। जिन्हे इलाज के लिए कुछ दिन पहले पीजीआई लखनऊ लाया गया था।
कौशल्या जी ने चंद्रशेखर के हत्यारों के खिलाफ चली लड़ाई का नेतृत्व किया। चंद्रशेखर की हत्या के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री देवगौड़ा सरकार से दिए गए अनुदान को नकारते हुए उन्होने जो पत्र लिखा वह एक मिसाल बन गया। हम बतौर श्रद्धांजली इस पत्र को दोबारा छाप रहे हैं।


प्रधानमंत्री महोदय,

आपका पत्र और बैंक ड्राफ़्ट मिला।


आप शायद जानतें हों कि चंद्रशकर मेरी एकलौती संतान था। इसके सैनिक पिता जब शहीद हुये थे ,वह बच्चा ही था। आप जानिये, उस समय मेरे पास मात्र १५० रुपये थे। तब भी मैंने किसी से कुछ नहीं मांगा था। अपनी मेहनत और ईमानदारी की कमाई से मैंने उसे राजकुमारो की तरह पाला था। पाल-पोसकर बड़ा किया था और बढि़या से बढिय़ा स्कूल में पढ़ाया था। मेहनत और ईमानदारी की वह कमाई अभी भी मेरे पास है। कहिये, कितने का चेक काट दूं!

लेकिन महोदय, आपको मेहनत और ईमानदारी से क्या लेना-देना! आपको मेरे बेटे की ‘दुखद मृत्यु’ के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ है। आपका यह कहना तो हद है महोदय! मेरे बेटे की मृत्यु नहीं हुयी है, उसे आपके ही दल के गुंडे-माफ़िया डान शहाबुद्दीन ने -जो दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव का दुलरुआ भी है- खूब सोच-समझकर व योजना बनाकर मरवा डाला है। लगातार खुली धमकी देने के बाद, शहर के भीड़-भाड़ भरे चौराहे पर सभा करते हुये , गोलियों से छलनी कर देने के पीछे कोई ऊंची साजिश है। प्रधानमंत्री महोदय! मेरा बेटा शहीद हुआ है। वह दुर्घटना में नहीं मरा है।

मेरा बेटा कहा करता था कि मेरी मां बहादुर है। वह किसी से डरती नहीं है। वह किसी भी लोभ-लालच में नहीं पड़ती। वह कहता था- मैं एक बहादुर मां का बहादुर बेटा हूं। शहाबुद्दीन ने लगातार मुझको कहलवाया कि अपने बेटे को मना करो नहीं तो उठवा लूंगा। मैंने जब यह बात उसे बतलायी तब भी उसने यही कहा था। ३१ मार्च की शाम जब मैं भागी-भागी अस्पताल पहुंची ,वह इस दुनिया से जा चुका था। मैंने खूब गौर से उसका चेहरा देखा, उस पर कोई शिकन नहीं थी। डर या भय का कोई चिन्ह नहीं था। एकदम से शांत चेहरा था उसका। प्रधानमंत्री महोदय! लगता था वह अभी उठेगा और चल देगा। जबकि, प्रधानमंत्री महोदय, इसके सिर और सीने में एक-दो नहीं सात-सात गोलियां मारीं गयीं थीं। बहादुरी में उसने मुझे भी पीछे छोड़ दिया।

मैंने कहा न कि वह मरकर अमर है। उस दिन से ही हजारों छात्र- नौजवान, जो उसके संगी-साथी हैं, जो हिंदू भी हैं मुसलमान भी, मुझसे मिलने आ रहे हैं। उन सबमें मुझे वह दिखाई देता है। हर तरफ़, धरती और आकाश तक, मुझे हजारों-हजार चंद्रशेखर दिखाई देते हैं। वह मरा नहीं है, प्रधानमंत्री महोदय!

इसीलिये, इस एवज में कोई भी राशि लेना मेरे लिये अपमानजनक है। आपके कारिंदे पहले भी आकर लौट चुके हैं। मैंने उनसे भी यही सब कहा था। मैंने उनसे कहा था कि तुम्हारे पास चारा घोटाला का, भूमि घोटाला का अलकतरा घोटाला का जो पैसा है, उसे अपने पास ही रखो। यह उस बेटे की कीमत नहीं है जो मेरे लिये सोना था, रतन था, सोने और रतन से भी बढ़कर था।

आज मुझे यह जानकर और भी दुख हुआ कि इसकी सिफ़ारिश आपके गृहमंत्री इंद्रजीत गुप्त ने की थी। वे उस पार्टी के महासचिव रह चुके हैं जहां से मेरे बेटे ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी। मुझ अपढ़-गंवार मां के सामने आज यह बात और भी साफ़ हो गयी कि मेरे बेटे ने बहुत जल्दी ही उनकी पार्टी क्यों छोड़ दी। इस पत्र के माध्यम से मैं आपके साथ-साथ उन पर भी लानतें भेज रहीं हूं जिन्होंने मेरी भावनाऒं के साथ यह घिनौना मजाक किया है और मेरे बेटे की जान की ऐसी कीमत लगवाई है।

एक ऐसी मां के लिये -जिसका इतना बड़ा और एकलौता बेटा मार दिया गया हो, और जो यह भी जानती हो कि उसका कातिल कौन है- एकमात्र काम यह हो सकता है , वह यह है कि उसके कातिल को सजा मिले। मेरा मन तभी शांत होगा महोदय! उसके पहले कभी नहीं, किसी भी कीमत पर नहीं। मेरी एक ही जरूरत है, मेरी एक ही मांग है- अपने दुलारे शहाबुद्दीन को ‘किले’ से बाहर करो। या तो उसे फ़ांसी दो ,या फ़िर लोगों को यह हक दो कि वे उसे गोली से उड़ा दें।

मुझे पक्का विश्वास है प्रधानमंत्री महोदय! आप मेरी मांग पूरी नहीं करेंगे। भरसक यही कोशिश करेंगे कि ऐसा न होने पाये। मुझे अच्छी तरह मालूम है आप किसके तरफ़दार हैं। मृतक के परिवार को तत्काल राहत पहुंचाने हेतु एक लाख रुपये का यह बैंक ड्राफ़्ट आपको ही मुबारक।

कोई भी मां अपने बेटे के कातिलों से सुलह नहीं कर सकती।

कौशल्या देवी
(शहीद चंद्रशेखर की मां_)
बिंदुसार सीवान
१८ अप्रैल, १९९७

9 comments:

dhiru singh said...

Aisee ma ke karan hee ma ke pooja hotee hai.us veer ma ko meri shirdhanjali.

manvinder bhimber said...

koshlya ji parti man mai or bhi samman bad gya hai....
mai unhe naman karti hu

अशोक पाण्डेय said...

शहीद चंद्रशेखर जैसे सपूत को जन्‍म देनेवाली मां को हार्दिक श्रद्धांजलि और शत शत नमन्।

मनीषा said...

तहदिल से सलाम है ऐसी मां को........

दिनेशराय द्विवेदी said...

कौशल्या जी जैसी माँ के पुत्रों की कमी नहीं है। वे तब तक पैदा होते रहेंगे, जब तक शहाबुद्दीन जैसे लोग धरती पर रहेंगे।

Udan Tashtari said...

श्रृद्धांजलि!!!

अपने से बाहर said...

दिल भारी करने वाला समाचार है। पता नहीं परमपिता के पास जाकर क्या कहेंगी वो हम सबके बारे में। चंद्रशेखर भैया ने जान दे दी, माताजी आख़िरी साँस तक लड़ती रहीं - पर हम सबने क्या किया या जो भी किया क्या वो पर्याप्त था?

kalakammune said...

कला कम्यून परिवार की ओर से बहादुर मां को लाल सलाम...

bhaskar said...

Bachpan hi tha jab ye ek nara padha tha "chandrashekhar tum mare nahi, tum jinda ho/
kheto me khalihano me. chhatro ke armano me"
us wakt na chandrashekhar ka naame pata tha aur na hi kuchh aur...
baad me ye zarur malum pada ki chnadrashekhar JNU ke adhyaksha rahe the...
in lekho se unaki mahanta ka parichay paake chakit hu..
shatshah pranam.
bhaskar